Home Study Material भारत के लोक नृत्य folk dances of India

भारत के लोक नृत्य folk dances of India [short tricks]

0
284
Himachal Pradesh Nati
Munzra
Luddi Dance
Kanayala
Giddha Parhaun
Hikat
Jammu and Kashmir Dumhal
Rouf
 Vetal Dhamali
Bhand Pathar
Chakri
Jharkhand Karma
Karnataka Yakshagana  Veeragase
Simha Nutrya
Dollu Kunitha
Bedara Vesha
Santa
Doddata-Bayalata
Kerala Kathakali Chakyar koothu
Mohiniattam Ottam Thullal
Chavittu Natakam
Kaikotti Kalai
Oppana
Koodiyattam
Krishnavattam
Thitambu Nritham
Mudiyettu
Thirayattam
Theyyam
Padayani
Duffmuttu
Lakshadweep Lava
Madhya Pradesh Grida dance
Lota
Pandvan
Tertali
Charkula
Jawara
Matki dance
Phulpatti dance
Macha
Maanch
Gaur maria dance
Mizoram Chiraw (Bamboo Dance)
Manipur Manipuri Thang ta
Dhol cholom
Maharashtra Pavri Nach
Lavani
Koli dance
Lezim
Gondha
Tamasha
Nagaland Chang Lo (Sua Lua)
Odisha Odissi Ghumara
Pala Jtra
Paika
Chhau
Goti pua
Karma Naach
Ghumra
Baagh Naach
Savari
Puducherry   Garadi
Punjab Bhangra
Giddha
Daff
Dhaman
Malwai
Jhumar,
Karthi
Kikli
Sammi
Dandass
Ludi
Jindua
Rajasthan Ghumar
Chakri
Gangaur
Jhulan
Kachchhi Ghodi
Jhuma
Banjaara
Kalbelia
Sikkim Singhi chham
Yak Chaam
Maruni
 Kali Topi
Rechungma
Tamil Nadu Bharatnatyam Kummi
Kolattam
Kavadi
Karagattam
Theru koothu
Bommal attam
Puliyaattam
Oyilattam
Mayil Attam
Poikal Kudirai Attam
Parai Attam or Thappattam
Paampu attam or Snake Dance
Telangana Kuchipudi Perini Thandavam
Dappu
Bhurakatha
Bhathukumma
Gusadi
Lambadi
Tripura Hojagiri
Goria
Lebang Boomani
Uttarakhand Chholiya
Jagars
Thali-Jadda
Jhainta
Barada Nat
Uttar Pradesh  Mayur Nritya
Raslila
Nautanki
Kajri
Jhora
Chhapeli
Jaita
West Bengal Chau
Gaudiya Nritya
Jatra
kathi
Alkap
Domni
Dhunachi
Dadra and Nagar Haveli Tarpa Dance 
Bhawada Dance
Dhol Dance
Gheria Dance

भारत के लोक नृत्य folk dances of India [short tricks] की पूरी जानकारी हिंदी में |

असम के लोक नृत-:

बिहू –भारत के असम राज्य का लोक नृत्य है| बिहू नृत्य असम की कछारी लोगो द्वारा बनाया ओर किया गया है |बिहू नृत्य फसल कटाई के में किया जाता है |यह नृत्य साम में 3 बार किया जाता है | यह नृत्य बहुत ही साधारण वेस भूसा में किया जाता है | example:- थोती कुरता |


 उत्तर प्रदेश लोक नृत्य –

नोटंकी नृत्य – नोटंकी नृत्य को दोहा हरी गीतका कव्वाली गजल अदि के द्वारा प्रस्तुत किया गया है |इसमें गायन,अभिनय नृत्य अदि कई साडी विधावो में सामिल किया जाता है | यह बहुत ही रोचक नृत्य है , भारत के उत्तर प्रदेश में किया जाने वाला बहुत ही प्रशिद है |नोताकी में बहुत से रस सामिल है |जयसे हास्य रस वीर रस आदि , नोटंकी लोक नृत्य में प्रस्तुत की जाने वाली कथा किसी के जीवन पर आधारित भी हो सकती हिया , यह बहुत ही कम टाइम के लिए होता है | इसमें कई सरे नृत्य भी होते है |


गुजरात के लोक नृत्य –

गरबा – गरबा गुजरात का लोक नृत्य है , लेकिन यह भारत के कई हिस्सों में भी किया जाता है , यह नवरात्रि के पवन अवसर में किया जाता है | गरबा नृत्य के द्वारा माँ दुर्गा की पूजा की जाती है | गरबा नृत्य नवरात्रि में पुरे भारत में मनाया जाता है |



कर्नाटक के लोक नृत्य

यषगान – यह एक पारम्परिक नृत्य है . जो कर्णाटक प्रदेश में मनाया जाता है . इस नृत्य को विशेष अवसर में धान के खेतो में रात के समय प्रस्तुत किया जाता है | जिसमे यह युद्ध से के बारे में बताता है |


अरुणाचल प्रदेश का नृत्य

अरुणाचल प्रदेश (भूतपूर्व पूर्वोत्तर फ्रंटियर एजेंसी ‘नेफा’) में सबसे ज़्यादा मुखौटा नृत्य किए जाते हैं। यहाँ तिब्बत की नृत्य शैलियों का प्रभाव दिखाई देता है। याक नृत्य कश्मीर के लद्दाख क्षेत्र और असम के निकट हिमालय के दक्षिणी सीमावर्ती क्षेत्रों में किया जाता है। याक का रूप धारण किए नर्तक अपनी पीठ पर चढ़े आदमी को साथ लिए नृत्य करता है। मुखौटों के साथ किए जाने वाले लोकनृत्य सादा टोपोत्सेन में पुरुष नर्तक भड़कीले ज़रीदार रेशम के लम्बे कुरते पहनते हैं। जिनकी चौड़ी झूलती बाहें होती हैं। वे अजीबो ग़रीब मुस्कान वाले लकड़ी के मुखौटे पहनते हैं। जिन पर खोपड़ियों का मुकुट होता है। जो परलोक की आत्माओं का प्रतिनिधित्व करती है। नर्तक बीच-बीच में कूदते हुए ताकतवर लेकिन धीमी चक्करदार मुद्राएँ बनाते हैं।

रजस्थान लोक नृत्य-

घुमर -घूमर राजस्थान का सामाजिक लोकनृत्य है। महिलाएँ लम्बे घाघरे और रंगीन चुनरी पहनकर नृत्य करती हैं। इस क्षेत्र के कच्ची घोड़ी नर्तक विशेष तौर पर दर्शनीय है। ढाल और लम्बी तलवारों से लैस नर्तकों का ऊपरी भाग दूल्हे की पारम्परिक वेशभूषा में रहता है और निचले भाग को बाँस के ढाँचे पर काग़ज़ की लुगदी से बने घोड़े से ढका जाता है। नर्तक, शादियों और उत्सवों पर बरेछेबाज़ी का मुक़ाबला करते हैं। बावरी लोग लोकनृत्य की इस शैली के कुशल कलाकार हैं। पंजाब क्षेत्र में सबसे अधिक जोशीला लोकनृत्य फ़सल कटाई के अवसर पर भांगड़ा है, जो भारत-पाकिस्तान सीमा के दोनों ओर किया जाता है और लोकप्रिय भी है। इस नृत्य के साथ-साथ गीत गाया जाता है। प्रत्येक पंक्ति की समाप्ति पर ढोल गूँजता है और अन्तिम पंक्ति सभी नर्तक मिलकर गाते हैं। भांगड़ा के हर्षोन्माद का नृत्य है, जिसमें हर आयु के पुरुष नाचते हैं। वे मस्ती में चिल्लाते और गोलाई में घूमते हुए नृत्य करते हैं और उनके कंधे और कूल्हे ढोल की लय पर थिरकते हैं।


 

भारत के लोक नृत्य folk dances of India [short tricks] की पूरी जानकारी हिंदी में |

  • NEW LUCENT 2018 PDF DOWNLOAD
  • NEW विश्व स्तरीय सामान्य ज्ञान 2018 PDF

जरुर पढ़ें : – यदि आपको इसी तरह की PDF रोज चाहिये तो आप नीचें दिए गये बेल आइकॉन पे click कर डेली PDF आसानी से प्राप्त कर सकते है |

Related PDF Must Read:-

Dear Friends, If you have eBook related any topic of if you want any information about any exam preparation, please comment on it. Share this post with your friends in social media. To get Daily updated information about our post please like my facebook page. You can also join our facebook group.

Disclaimer : Update24hour इस  पुस्तक  का मालिक नहीं है, न ही बनाया और न ही स्कैन किया गया है कि हम इंटरनेट पर पहले ही उपलब्ध लिंक उपलब्ध करा रहे हैं। यदि किसी भी तरह से यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो कृपया हमसे संपर्क करें|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here